• Sun. Apr 21st, 2024

सनातन के लिए सराहनीय कार्य कर रहे श्रीमंहत रविंद्रपुरी महाराज: डॉक्टर युधिष्ठिर लाल शदाणी

ByAdmin

Oct 14, 2023



अखिल भारतीय सनातन परिषद के संस्थापक अध्यक्ष श्री महंत रविंद्र पुरी महाराज से मिले संत युधिष्ठिर लाल शदाणी

राष्ट्रीय कार्यालय पर मुलाकात कर किया स्वागत, सनातन को लेकर की गई चर्चा

हरिद्वार। अखिल भारतीय सनातन परिषद छत्तीसगढ़ प्रांत के संयोजक एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शदाणी दरबार के नवम पीठाधीश्वर संत डॉ. युधिष्ठिर लाल ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद एवं अखिल भारतीय सनातन परिषद के संस्थापक अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज से मुलाकात की। केंद्रीय कार्यालय पहुंचकर अखिल भारतीय सनातन परिषद के संस्थापक अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज को शॉल ओढ़ाकर किया स्वागत। सनातन की मजबूती के लिए किए जा रहे कार्यों और सनातन धर्म को लेकर की जा रही टिप्पणी पर चर्चा की।


श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा कि शदाणी दरबार के पीठाधीश्वर संत डॉ.
युधिष्ठिर लाल शदाणी पाकिस्तान में भी सनातन का पताका लहरा रहे हैं। श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज ने कहा सनातन सूर्य से पैदा हुआ है इसलिए जब तक सूर्य रहेगा तब तक सनातन रहेगा। देश में वैदिक सनातन धर्म को अपमानित करने का जो षड़यंत्र चल रहा है इसका संत समाज पूरी ताकत के साथ जवाब देगा। आदि अनादि काल से वैदिक सनातन धर्म अक्षुण्ण रहा है। कोई कितने भी षड़यंत्र कर ले। वैदिक सनातन धर्म अखण्ड रहेगा।

संत डॉ. युधिष्ठिर लाल महाराज ने कहा कि श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज ने कोविड़ काल में सरकार, शासन प्रशासन ही नहीं अपितु जनमानस की भी मदद की है। डॉक्टर युधिष्ठिर लाल ने कहा कि सभी शाश्वत सनातन धर्म ने हमेशा ही दुनिया को प्रेम, स्नेह व भाईचारे का संदेश दिया है। देश हमेशा एक और अखण्ड रहेगा। सनातन धर्म पर कुठाराघात करने वालों के मंसूबे कभी पूरी नहीं होने दिए जाएंगे। डॉक्टर युधिष्ठिर लाल शदाणी ने कहा कि सनातन धर्म संस्कृति की रक्षा के लिए संत समाज सर्वस्व अर्पण करने को तैयार है। संत समाज सनातन धर्म को मिटाने की कोशिशों को कभी कामयाब नहीं होने देगा। इस मौके पर अखिल भारतीय सनातन परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री पुरषोत्तम शर्मा, ओम प्रकाश खत्री, जीवनदास कुकरेजा, डॉ पुरुषोत्तम बत्रा, सुमित चावला, अमर लाल शादनी आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *